भारत के इन रेलवे स्टेशन के कोई नाम नहीं हैं । बिना नाम के रेलवे स्टेशन

Railway station bina naam ke


भारतीय रेलवे दुनिया की चौथी सबसे बड़ी रेलवे सेवा है । भारतीय रेलवे के देश भर में सात हजार से ज्यादा रेलवे स्टेशन हैं । आज हम बात करेंगे भारत की ऐसी रेलवे स्टेशन के बारे में जिनका कोई नाम नहीं हैं ?

पहला है पश्चिम बंगाल के बर्धमान जिले में हैं तो दूसरा स्टेशन झारखंड के रांची में  है।


पहला मामला पश्चिम बंगाल का

दरसअल बात यह हैं कि वर्ष 2008 में भारतीय रेलवे ने पश्चिम बंगाल के बर्धवान जिले में बर्धवान टाउन से करीब 35 किलोमीटर दूर एक नया स्टेशन बनाया और नाम दिया गया रैनागढ़ रेलवे स्टेशन । उस समय यह नैरो गेज रूट था , जिसे बांकुड़ा-दामोदर रेलवे रूट के नाम से जाना जाता था । लेकिन यह वर्तमान इसे  ब्रॉड गेज में बदला गया हैं , जो कि स्टेशन से 200 मीटर दूरी पर स्थित हैं । अब एक नए स्टेशन का निर्माण किया जो कि रैना गांव के अंतर्गत आता हैं ।


यह रेलवे स्टेशन दो गांवों रैना और रैनागढ़ के बीच स्थित है।

लेकिन नए स्टेशन के नामकरण को लेकर तब विवाद खड़ा हो गया जब रैना गांव के लोगों ने इसका नाम रैनागढ़ रखने से इंकार कर दिया और कहा कि क्योंकि ये स्टेशन रैना गांव के अंतर्गत आता है इसलिए इसका नाम रैना गांव के नाम पर होना चाहिए । जिसके बाद इस स्टेशन के दोनों तरफ पीले रंग के साइनबोर्ड  खाली हैं ।


अब प्रश्न फिर खड़ा होता हैं कि तो फिर टिकट पर नाम कौनसी स्टेशन का नाम छपता होगा ?

दोनों गांव में विवाद होने के रेलवे अभी भी स्टेशन के लिए टिकट इसके पुराने नाम रैनागढ़ से ही जारी करती है। 


दूसरा मामला झारखंड का

झारखंड की राजधानी रांची से एक सवारी गाड़ी निकलती है, जो टोरी तक चलती है। इसी बीच में एक रेलवे स्टेशन है , जो कि 2011 में बना था । इस रेलवे स्टेशन के नाम को लेकर  कमले गांव के लोगों और रेलवेे का विवाद हैं ।


कमले गांव के लोगों का कहना है कि यह रेलवे स्टेशन उनके गांव की जमीन पर बना है, तो इसका नाम भी उनके गांव पर ही होना चाहिए। लेकिन प्रशासन उनके साथ अन्याय कर रहा है। कई बार इस रेलवे स्टेशन को बड़कीचांपी नाम देने की कोशिश की गई, लेकिन कमले गांव के लोगों ने भारी विरोध कर इसे पूरा नहीं होने दिया। लेकिन यहां एक बात तो साफ है कि सरकार की नज़रों में इस रेलवे स्टेशन का नाम बड़कीचांपी है।

बता दें कि इस स्टेशन पर उतरने वाले यात्री बड़कीचांपी की टिकट कटवाते हैं।



Post a comment

0 Comments