मैंगो मैन हाजी कलीमुल्लाह खान । Mango Man Haji Kalimullah Khan

Mango man



आम को फलों का राजा कहा जाता है। यह हमारे देश का सबसे लोकप्रिय फल है। अपने अद्भुत स्वाद और खुशबू की वजह से ही आम में पाई जाने वाली बेहिसाब खूबियां इसे फलों का राजा बनाती हैं। दुनिया भर में इसकी हजारो किस्में हैं । 


हर किसी का अपना एक पसंदीदा आम होता है। यूपी वालों को दशहरी , मुंबई वालों को अलफांसो , दिल्ली वालों को चौसा तो बंगलुरू वालों को बंगनपल्ली आम पसंद हैं । 


जब भी कभी भी आम की बात होती है , तो कई लोगों की बचपन की यादें ताज़ी हो जाती हैं । गर्मियों की छुट्टियों के दौरान लिया इसका स्वाद याद आ जाता है। कोई इस फल को काटकर खाना पसंद करता है तो कोई आम का जूस, स्मूदी, शेक, अचार, जैम और डेसर्ट बनाकर स्वाद लेता है।

लेकिन क्या आपने कभी एक साथ 300 ज्यादा किस्म के आम एक ही पेड़ पर देखें हैं , नहीं न। तो  आज हम बात करने जा रहे ऐसे शख्स के बारे में जिन्होंने 300 से ज्यादा किस्मों के आमों को एक ही पेड़ पर लगाया है  grafting technique की मदद से  । इनका नाम हैं हाजी कलीमुल्लाह खान (Haji Kalimullah Khan) । खान साहब जी लखनऊ के मलिहाबाद के निवासी हैं । इन्होंने भारत में ही नहीं बल्कि पूरे विश्व में नाम कमाया है । इनके लिए मैंगो मैन ( Mango Man ) के नाम से जाना जाता है । 


Mango man
Image Source : kaleemullahkhan.com


पद्मश्री से किया जा चुका हैं  सम्मानित 

कलीमुल्लाह साहब को 2008 में पद्मश्री से नवाज़ा गया हैं। कलीमुल्लाह खां आम की सैकड़ों नई प्रजातियों के जन्मदाता हैं ।  हाजी कलीमुल्लाह खां के हाथों का हुनर ही है कि इनके द्वारा लगाए गए एक ही पेड़ में 300 तरह के आम लगते हैं।  खान साहब ऐसे जादूगर है जिनके द्वारा लगाए गए आम के पेड़ पर हर आम का अलग अलग टेस्ट होता हैं । राज्य सरकार द्वारा उद्यान पंडित का खिताब भी मिल चुका है।


आमों के नाम रखे गए हैं राजनेताओं और सेलेब्रिटियों के नाम पर

जी हाँ यह बड़ी दिलचस्प बात यह है कि आमों की प्रजातियों के नाम राजनेताओं और सेलेब्रिटियों के नाम पर रखे गए हैं ।

इनमें देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृहमंत्री अमित शाह, अखिलेश यादव, ऐश्वर्या राय और महान क्रिकेटर सचिन तेंदुलकर जैसे दिग्गज शामिल हैं। 


सातवीं में फेल होने के बाद छोड़ दी पढ़ाई

हाजी कलीमुल्लाह खां ज्यादा पढ़े-लिखे नहीं हैं । इन्होंने सिर्फ छटवीं कक्षा पास की सातवीं कक्षा तक ही बड़ी मुश्किल से पहुंचे और फेल हो गए। 


कोरोना वॉरियर्स के लिए विकसित किया ‘डॉक्टर मैंगो’

देशभर में कोरोना योद्धाओं को सलामी दी जा रही है । कलीमुल्लाह साहब ने इस प्रजाति को कोरोनावायरस के खिलाफ लड़ाई में डॉक्टरों की निस्वार्थ सेवा के लिए एक श्रद्धांजलि के रूप में डॉक्टर मैंगो नाम दिया है ।


Post a Comment

0 Comments