गोल गुम्बद बीजापुर



History of Gol Gumbaz - गोल गुम्बज का इतिहास

भारत का सबसे बड़ा गुंबद गोल गुंबद हैं । जो कि कर्नाटक के बीजापुर में स्थित है यह गोल गुंबज और गोल गुंबद के नाम से भी जाना जाता है । यह बीजापुर के सुल्तान मोहम्मद आदिल शाह का मकबरा है । यह दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा गुंबद भी है। 

Gol gumbad bijapur


गोल गुंबज का निर्माण किसने करवाया

आदिल शाही साम्राज्य के सातवें शासक, मोहम्मद आदिल शाह ने 1626 में सुल्तान बनने के ठीक बाद मकबरे का निर्माण शुरू किया। वह चाहते थे कि मकबरा उनके पिता इब्राहिम आदिल शाह के स्मारक की तुलना में बड़ा और विशाल हो। और 1656 में गोल गुम्बज का निर्माण पूर्ण हो चुका था । 


Interesting Facts About Gol Gumbaz -  गोल गुम्बद के बारे में रोचक जानकारी 


◆ गोल गुम्बज, आदिल शाह की कब्र आकार में गोलाकार है और वास्तव में भारत में सबसे बड़े गुंबदों में से एक है। इसका रखरखाव भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण द्वारा किया जाता है।

◆ गोल गुम्बज बनाने वाले आर्किटेक्ट का नाम दाबुल के याकूत  है।

◆ मकबरे में 4 मीनार हैं, प्रत्येक में सीढ़ियों के साथ 7 मंजिल हैं। इन मीनारों से बीजापुर का एक समग्र दृश्य देखा जा सकता है।

◆ इसे 'ब्लैक ताज महल' या दक्षिण भारत के 'ताज महल' के रूप में भी जाना जाता है।


◆ इस गुम्बज में एक फुसफुसा गैलरी ( whispering gallery ) ।   whispering gallery को इस तरह डिज़ाइन किया गया हैं कि अगर इस gallery में थोड़ी सी भी हलचल होती हैं तो वह आसानी से सुनाई देती हैं वह भी 40 मीटर दूर तक । इस व्हिसपेरिंग गैलरी के अंदर कोई भी ध्वनि 7 से 10 बार गूंजती हैं ।

◆ गोल गुम्मट के केंद्रीय गुंबद ( Central dome ) का ब्यास ( diameter ) 44 मीटर है जो कि दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा गुम्बद है । वेटिकन में सेंट पीटर की बेसिलिका का गुम्बद दुनिया का सबसे बड़ा गुम्बद हैं ।


◆ आश्चर्य की बात यह है कि इतने विशाल गुंबद के सहारे के लिए एक भी खंभा नहीं है।