गोमटगिरी तीर्थ क्षेत्र इंदौर

Gomatgiri tirth kshetra indore
  गोमटगिरी तीर्थ क्षेत्र इंदौर



जैनों के प्रसिद्ध तीर्थ क्षेत्र श्रवणबेलगोला के बारे में आपने तो सुना ही होगा ।  इंदौर में भी इसी तीर्थ की प्रतिकृति आकार ले चुकी है। सुंदर हरित पहाड़ी पर बसा यह मनोरम अतिशय तीर्थ क्षेत्र श्री दिगंबर जैन अतिशय तीर्थ क्षेत्र गोमटगिरी का निर्माण आचार्य श्री विद्यानंद जी महाराज की पावन प्रेरणा से हुआ था।

24 तीर्थंकरों के जिनालय व नवरंगी रत्नों की त्रिकाल चौबीसी के बीच बाहुबली की 21 फीट ऊंची खडग़ासन प्रतिमा की दिव्यता जैन दर्शन की संपूर्णता का अहसास देती है। 

गोमटगिरी इंदौर
Image source - hindi.nativeplanet.com


इस अतिशय तीर्थ को बनाने की प्रेरणा राष्ट्रसंत विद्यानंदजी ने दी थी। बात सन 1979 की है  मुनिराज श्रवणबेलगोला की ओर मंगल विहार कर रहे थे, तभी उन्हें देपालपुर रोड स्थित इस पहाड़ी पर भगवान बाहुबली के स्वरूप का इल्म हुआ। 1981 में समाजजन दिवंगत दुलीचंद सेठी, शांतिलाल पाटनी व बाबूलाल पाटोदी ने आचार्यश्री के सान्निध्य में इसे साकार करने का बीड़ा उठाया। समाजजन ने 2 लाख रु. एकत्रित किए।

सन 1986 में 24 तीर्थंकरों और भगवान बाहुबली की कमलासन पर विराजित प्रतिमा की स्थापना की गई, तभी से इस जैनतीर्थ को गोम्मटगिरि तीर्थ के रूप में जाना जाता है।

जैन धर्म के अनेक जैन धर्मावलंबी इस तीर्थ के दर्शन के लिए आते हैं और जैन दर्शन को समझते हैं । पूरे तीर्थ क्षेत्र की रचना संपूर्ण जैन धर्म की कहानी बताता हैं ।

इंदौर  हवाई अड्डे से केवल 5 मिनट की ड्राइव पर यह तीर्थ क्षेत्र छोटी सी पहाड़ी पर स्थित है ।

 सूर्योदय और सूर्यास्त देखने के लिए भी एक शानदार स्थान है!
Gomatgiri indore jain temple
Image source - m.patrika.com


गोमटगिरि की एक और आकर्षक विशेषता यह है कि इसमें 24 संगमरमर मंदिर शामिल हैं, जिनमें से प्रत्येक जैन धर्म के 24 तीर्थंकरों को समर्पित है! इस पवित्र स्थान का निर्माण पहाड़ी पर किया गया है, जिसे 1981 में मध्य प्रदेश सरकार द्वारा जैन समाज को दान दिया गया था!

रविवार को, गोमतगिरी मंदिर के प्रसिद्ध दाल-बाटी को 'भोजनालय' (भोजनालय) में परोसा जाता है! 


आप जानते हैं कुछ महत्वपूर्ण तथ्य गोमटगिरी तीर्थ के बारे में

यहां पर लगभग गौतम गणधर स्वामी से लेकर सभी प्राचीन व वर्तमान आचार्य के चरण चिन्ह है ।

इस मंदिर में त्रिकाल चौबीसी यानी तीनों कालों के तीर्थंकर की वेदी है  ।

इस परिसर में सरस्वती परिसर है जिसमें दुर्लभ ग्रंथों का संग्रह है जिनका अध्ययन श्रावक गण एवं मुनिराज आदि करते हैं ।

24 जिनालय है  जिनमें  तीर्थंकर की  मूर्तियां विराजमान है  और भगवान बाहुबली की प्रतिमा विराजमान है 

मंदिर परिसर में 41 फीट ऊंचा  मान स्तंभ है परिसर में ।

नवरत्नों की 72 प्रतिमाएं सजी है इस वेदी में ।

वार्षिक मेले का आयोजन मार्च के द्वितीय रविवार को ।

Address of gomatgiri tirth kshetra indore
गोमटगिरी तीर्थ क्षेत्र का पूरा पता 

Gommatagiri Digambar Jain Temple, Major district Road, Indore, Madhya Pradesh 257112



अतिशय क्षेत्र गोम्मटगिरि - इन्दौर मध्यप्रदेश
नाम एवं पता -
 भगवान बाहुबली दिगम्बर जैन अतिशय तीर्थ क्षेत्र, गोम्मटगिरि हातोद रोड़, तहसील - हातोद, जिला - इन्दौर (मध्यप्रदेश) पिन - 453111


Contact no of gomatgiri tirth

0731 2882 251
धर्मशाला - 2882650



Transportation facilities near gomatgiri tirth kshetra indore
    आवागमन के साधन गोमटगिरी तीर्थ क्षेत्र 

रेलवे स्टेशन - इंदौर {. 15 km}

बसस्टैंड -   गंगवाल बस स्टैंड , इंदौर - 10 km
       सरवटे बस स्टैंड इंदौर - 14 km


पहुंचने के लिए सबसे सही यही  है कि सबसे पहले आप इंदौर रेलवे या बस से पहुंचे और वहां से ऑटो रिक्शा अथवा मैजिक और मैजिक चैंपियन लगी हुई रहते हैं उससे आप गोमटगिरी गोमट गिरी तीर्थ पर पर पहुंच सकते हैं पहुंच सकते हैं  ।


गोमटगिरी के सबसे पास नगर इंदौर है ।

Other jain kshetra near gomatgiri tirth kshetra
गोमटगिरी के पास अन्य तीर्थ क्षेत्र

बनेडिया जी जैन मंंदिर - 30 km
मक्सी पारसनाथ- 80 km
काँच मंदिर इंदौर  - 10 km
तीर्थ नवग्रह जिनालय - 3 km

प्रबन्ध व्यवस्था

संस्था - भगवान बाहुबली दिगम्बर जैन ट्रस्ट, गोम्मटगिरि

अध्यक्ष - श्री कमल चन्द सेठी (93021 06655)

कार्याध्यक्ष - श्री प्रतिपाल टोंग्या (93021 06984)

महामंत्री - श्री भरत मोदी (98260 33128)

कोषाध्यक्ष - श्री शांतिकुमार टोंग्या (9926958968)

प्रबन्धक - श्री अनिल जैन (09329114091)





Tags

Jain pilgrimage in indore
Famous jain temple in indore
Indore ka prasiddh jain mandir
Gomatgiri indore in hindi
Gomatgiri tirth kshetr 
गोमतगिरी इंदौर
इंदौर का प्रसिद्ध जैन मंदिर
 प्रसिद्ध जैन मंदिर इंदौर में

Post a Comment

0 Comments