कैसे पड़ा पालीताना एवं शत्रुंजय शाश्वत तीर्थ सिद्धाचल का नाम ....

 हम आज जानेगे की श्री शाश्वत तीर्थ सिद्धाचल का नाम पालीताना और शत्रुंजय कैसे पड़ा ? ..... 

पालीताना जैन मंदिर
Image source - wikipedia

कैसे हुआ शत्रुंजय नाम ....
चौथे  तीर्थंकर श्री अभिनन्दन स्वामी जी के तीर्थकाल की बात है। उस समय राजा शुक ने इसी पर्वत तपस्या करके अपने राज्य के शत्रुओं को परास्त किया। इसके इन्होंने यही पर इसी पर्वत पर तपस्या कर अपनी आत्मा के शत्रु ( कर्म) पर विजय प्राप्त कर केवलज्ञान एवं मोक्ष की प्राप्ति की। तभी से इसका नाम शत्रुंजय प्रचलित हुआ।

Image source - jain24.com

कैसे हुआ पालीताणा नाम .....

भगवान महावीर स्वामी जी के शासनकाल में एक आचार्य पादलिप्त सूरि जी थे ,उनके शिष्य नागार्जुन हुए इन्होंने अपने गुरु की याद में पादलिप्तपुर नगर बसाया लेकिन कुछ समय बाद इस नगर का नाम पालीताणा पड़ गया।
                     रणकपुर जैन मंदिर

                   

Post a Comment

0 Comments